कंझावला मामला: मेहनती लड़की परिवार की एकमात्र रोटी कमाने वाली थी – आप सभी को उसके बारे में जानने की जरूरत है

नयी दिल्ली, दो जनवरी (भाषा) मीलों तक कार के नीचे घसीटे जाने के दौरान 20 वर्षीय महिला ने अपनी बुजुर्ग मां और छह भाई-बहनों को सहारा दिया।

कंझावला कांड: मेहनती लड़की के बारे में वह सभी जानकारी जो आपको जानना चाहिए, जो परिवार की एकमात्र रोटी थी
कंझावला कांड: मेहनती लड़की के बारे में वह सभी जानकारी जो आपको जानना चाहिए, जो परिवार की एकमात्र रोटी थी
ज़ी न्यूज़ के मुताबिक
अपने परिवार का समर्थन करने और अपनी मां के डायलिसिस के लिए भुगतान करने के लिए पिछले साल अपने पिता के निधन के बाद उन्होंने एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी के लिए पार्ट-टाइम काम किया, जिसके लिए उन्हें देर से काम करना पड़ता था।

उसकी एक शादीशुदा बहन है। उसकी दो और बहनें, दो भाई और खुद उसके सहारे के एकमात्र स्रोत थे।

उसने अपनी मां को बताया कि वह रोज की तरह रविवार को सुबह दो से तीन बजे के बीच घर लौटेगी। लेकिन इस बीच जो कुछ हुआ उसने उसके परिवार को जीवन भर के लिए जख्मी कर दिया।

युवती के काम के कारण उसे शादियों और अन्य कार्यक्रमों में शामिल होना पड़ता था और रविवार को वह इनमें से एक समारोह में शामिल होने के लिए बाहर गई हुई थी।

“उसने मुझे बताया कि वह एक कार्यक्रम में जा रही है और देर से लौटेगी जब वह एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी में काम करती थी। उसकी माँ ने टिप्पणी की, “मैं उसका इंतजार कर रही थी।

उसे याद आया कि उसने अपनी बेटी की आखिरी बात रात नौ बजे की थी। “मेरी बेटी ने वादा किया था कि वह जल्द ही घर आएगी,” मैंने कहा।

“मैंने सुबह करीब 10:30 बजे उनसे संपर्क भी किया था, लेकिन उसके बाद उनसे संपर्क करना नामुमकिन था।”

उन्होंने कहा, “हमें सुबह पुलिस से फोन आया कि मेरी बेटी के दोपहिया वाहन का एक्सीडेंट हो गया है। उन्होंने अनुरोध किया कि मैं उन्हें देखूं, लेकिन मैंने मना कर दिया क्योंकि मेरी तबीयत ठीक नहीं है।”

Leave a Comment